सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

गर्भवती महिलाओं को गर्म पानी पीना चाहिए या ठंडा, जानिए

6
डेस्क: साइंस की बात करें तो गर्भावस्था के समय डॉक्टर महिलाओं को भरपूर पानी पीने की सलाह देते हैं। लेकिन महिलाओं के मन में इस बात की चिंता बनी रहती हैं की उसके लिए गर्म पानी पीना ज्यादा फायदेमंद होगा या ठंडा पानी पीना ज्यादा फायदेमंद होगा। आज जानने की कोशिश करेंगे इन्ही बातों के बारे में की गर्भावस्था के समय महिलाओं को कौन सा पानी पीना ज्यादा फायदेमंद होता हैं। साथ हीं साथ ये भी जानने की कोशिश करेंगे की इससे महिलाओं के शरीर में कौन कौन से फायदे होते हैं। तो आइये जानते हैं विस्तार से। 
गर्म पानी, गर्भवती महिलाओं के लिए ज्यादा गर्भ पानी पीना खतरनाक होता हैं। क्यों की ज्यादा गर्म पानी पीने से महिलाओं के शरीर के तापमान में अचानक से वृद्धि हो जाती हैं। जिसका सीधा असर गर्भ में विकसित हो रहे भूर्ण के विकास पर पड़ता हैं। इससे महिला के गर्भाशय में भूर्ण का विकास सही तरीकों नहीं नहीं हो पाता हैं।  साथ हीं साथ शरीर का ब्लड सर्कुलेशन भी अनियंत्रित हो जाता हैं।जिसके कारण महिलाएं खुद को अस्वस्थ महसूस करती हैं। इसलिए गर्भवती महिला को गर्म पानी का सेवन नहीं करनी चाहिए और उन्हें गर्म पानी के सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। 
 
ठंडा पानी, फ्रिज में रखा हुआ ज्यादा ठंडा पानी गर्भवती महिलाओं के लिए खतरनाक होता हैं। इसके सेवन से महिलाओं के शरीर का तापमान अचानक से कम जाता हैं। जिसके कारण भूर्ण के विकास में बाधा उत्पन होने लगती गति हैं और गर्भ में विकसित हो रहा शिशु खुद को अस्वस्थ महसूस करता हैं। इतना ही नहीं ज्यादा ठंडा पानी पीने से गर्भवती महिलाओं के शरीर में सर्दी जुकाम होने का खतरा बना रहता हैं। इससे महिलाओं का सेहत प्रभावित होता हैं। इसलिए गर्भवती महिलाओं को ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए। 
 
पानी के फायदे, गर्भवती महिलाओं के लिए सामान्य तापमान का नॉर्मल पानी पीना फायदेमंद होता हैं। इस तरह के पानी पीने से गर्भवती महिलाओं के शरीर में कोई परेशानी नहीं होती हैं। साथ हीं साथ महिलाओं का शरीर स्वस्थ और सेहतमंद रहता हैं। पानी के सेवन से गर्भवती महिलाओं के शरीर में पानी की कमी नहीं होती हैं। जिसके कारण शरीर का मेटाबॉजिल्म ठीक तरीकों से कार्य करता हैं। साथ हीं साथ महिलाओं के पेट में कब्ज और गैस की समस्या नहीं होती हैं। इससे शरीर का पाचन तंत्र भी मजबूत होता हैं तथा गर्भ में शिशु का विकास सही तरीकों से होता हैं। 

Advertisement

Comments are closed.