क्या शादियों के रजिस्ट्रेशन से खतरे में पड़ेगा इस्लाम ? – KhabarTak

0 163

क्या शादियों के रजिस्ट्रेशन से खतरे में पड़ेगा इस्लाम ?

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने शादियों का रजिस्ट्रेशन को अनिवार्य तो कर दिया, लेकिन अब इसको लकर सियासी शोर मचने लगा है। जहां एक तरफ विपक्ष को सरकार घेरना का मुद्दा मिल गया वहीं इसके साथ-साथ धर्म के ठेकेदार भी विरोध में आ गए हैं। रजिस्ट्रेशन के पैरोकार और विरोधियों दोनों के अपने-अपने तर्क हैं।

सरकार के किसी भी फैसला का विरोध करना विरोधी दलों की सियासत का हुनर है, लेकिन इस बार हुनर की नुमाइश एक खास धर्म की आड़ में सियासी लाग लपेट साथ हो रही है। योगी सरकार ने सूबे में शादियों का रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य क्या किय तो विपक्ष में बैठे सियासतदानो से लेकर धर्म के ठेकेदार तक मैदान में आ गए।

धर्म के ठेकदारों ने कहा ताल ठोकने के लिए कहा कि इस्लाम में निकाह को रजिस्टर्ड करना जरूरी नहीं है। फैसले के स्वागत और विरोध के बीच आरोपों-प्रत्यारोपों का दौर जारी है। हालांकि वकील और बाबरी मस्जिद मामले में मुद्दई नेता जफरयाब जिलानी ने कहा कि आखिर इस फैसले में गलत क्या है ?,

शादियों के रजिस्ट्रेशन से कोर्ट में शादी को प्रूफ करना आसान होगा और यह सभी मान रहे हैं, लेकिन फैसले में रजिस्ट्रेशन न कराने वालों को सरकारी सुविधाएं न देने की बात भी की जा रही है, और विवाद यहीं से शुरु होता है।

तमाम बतों के मद्देनजर सावल आखिर यहा खड़ा होता है आखिर शादियों के रजिस्ट्रेशन से इस्लाम कैसे प्रभावित होगा और इस मुद्दे पर सियासत क्यों की जा रही है?

*4 अगस्त, शाम 7 बजे को प्रसारित प्राइम टाइम डिबेट शो‘जो कहूंगा सच कहूंगा’ का यह एपिसोड हिन्दी ख़बर चैनल के ऑफिशियल यूट्यूब चैनल पर भी देख सकते हैं।

Via Hindi Khabar

Original Article

Advertisement

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.