सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

क्या आप जानते हैं कि आखिर मंदिर के दरवाजे दोपहर में बंद क्यों किए जाते हैं ?

230

सुबह जल्दी जागना , स्नान , पूजन , आदि का सनातन धर्म में बहुत महत्व हैं ।ऐसा माना जाता है कि दिन के पहले प्रहर में उठकर साधना करना श्रेष्ठ होता है । ब्रह्म मुहूर्त यानी सुबह 3 से 4 के बीच का समय ।

यह हमारे स्वास्थ के लिए बहोत लाभदायक है और आध्यात्मिक शांति के लिए भी । सूर्योदय के पूर्व का और रात का अंतिम समय होने से ठंडक होती है । नींद से जागने पर ताजगी रहती है और मन एकाग्र करने में अधिक प्रयास नहीं करने पड़ते ।

जबकि शाम यानि सूर्यास्त के समय को संधिकाल माना जाता है । इस समय दिन और रात के बिच का समय होता है । इसलिए इसे धार्मिक कामों के लिए अच्छा माना गया है ।

इसके विपरीत दोपहर में पूजा इसलिए नहीं करनी चाहिए , क्योंकि हमारे यहां ऐसी मान्यता है कि दोपहर समय भगवान का विश्राम के समय होता है ।उस समय मंदिर के पट (दरवाजे ) बंद हो जाते हैं । साथ ही दोपहर 12 बजे के बाद पूजन का पूरा फल प्राप्त नहीं होता है , क्योंकि दोपहर के समय पूजा में मन पूरी तरह एकाग्र नहीं होता है ।

इसलिए सुबह और शाम को की गई पूजा का महत्व माना गया है ।

Advertisement

Comments are closed.