सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन, 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

अनेकों बीमारियाँ का काल है गुडहल का फूल

73

आज हम जिस फूल के बारे में बात कर रहे हैं वह फूल है गुडहल का । गुडहल एक आम सा फूल है जो कि देखने में सुंदर होता है। ऐसे कई गुडहल के फूल हैं जो कि अलग-अलग रंगों में पाये जाते हैं जैसे, लाल, सफेद , गुलाबी, पीला और बैगनी आदि। यह सुंदर सा गुडहल का फूल स्वास्थ्य के खजाने से भरा पड़ा है। इसका इस्तेमाल खाने- पीने या दवाओं लिए किया जाता है। इससे कॉलेस्ट्रॉल, मधुमेह, हाई ब्लड प्रेशर और गले के संक्रमण जैसे रोगों का इलाज किया जाता है। यह विटामिन सी, कैल्शियम, वसा, फाइबर, आयरन का बढिया स्रोत है।

गुडहल के फायदे :-

• 8-10 फूलों का रस 1 चम्मच मिश्री के साथ रोजाना 1 बार सेवन करने से हृदय की दुर्बलता (कमजोरी) दूर हो जाती है।

• गुड़हल की 10 से 12 कलियां या फुलों को पीसकर घोट लें और फिर सुबह और शाम इसका सेवन करने से पैतिक ज्वर में लाभ मिलता है।

• सफेद गुड़हल के पत्तों के रस में चीनी डालकर पीने से पित्त को नष्ट करने में लाभ मिलता है।

• गुड़हल के फूलों का रस को निकालकर सिर में डालने से बाल बढ़ते हैं।

• 4-5 गुड़हल के फूल को इतनी ही कालीमिर्च के साथ चबाकर सेवन करें इससे कुछ ही दिनों में सर्दी-जुकाम के रोग में आराम मिलता है।

• खारे पानी में गुड़हल मिलाकर शर्बत बना लें और इसे पी लें इससे गले के कई रोग समाप्त हो जाते हैं।

Advertisement

Comments are closed.